You are here
Mind Concentration Tips in Hindi | एकाग्रता की शक्ति Hindi Motivational Blog 

Mind Concentration Tips in Hindi | एकाग्रता की शक्ति

Mind Concentration Tips in Hindi | एकाग्रता की शक्ति  
 

Mind Concentration Tips in Hindi | एकाग्रता की शक्ति

दोस्तों, “हम सबका मन भटकता है।” जिस तरह भंवरा एक फूल से दूसरे फूल पर मंडराता रहता है। उसी तरह हमारे मन के विचार भी लगातार बदलते रहते हैं। इसी कारण समस्या पैदा होती है, कई बार हमें पता ही नहीं चलता कि हमें क्या करना चाहिए ? और ज्यादातर इसी कारण हमें सफलता प्राप्त नहीं होती है।

असफलता के कारण स्वाभाविक रूप से हम आत्मविश्वास खो बैठते हैं, फिर एक सिलसिला शुरू हो जाता है और हम असफलता अथवा घिसे-पिटे जीवन चक्र में फंस जाते हैं।  (Read :आत्मविश्वास कैसे बढ़ाएँ ?)

अपने आप पर काबू पाने के लिए एक अति आवश्यक साधना।मन जैसी चंचल चीज पर अंतिम विजय प्राप्त करा देने वाली आवश्यक बात। एक ही विचार पर ध्यान केंद्रित करते हुए सफलता की कई सीढ़ियों को आसानी से पार कर सकने वाली एक असाधारण ताकत।…….. Mind Concentration Tips| एकाग्रता | एक असाधारण शक्ति |

“अर्जुन को पंछी की केवल आँख ही दिखाई दी, और उसने लक्ष्य भेद दिया ।”

अर्जुन को पंछी की केवल आंख ही दिखाई दी। यह मशहूर कथा तो सब जानते हैं, यह प्रसंग उस समय का है, जब कौरव और पांडवों के गुरु द्रोणाचार्य छात्रों को धनुर्विद्या सिखा रहे थे। दूर एक पेड़ पर बैठे पंछी की आंख का निशाना साधने का अभ्यास करना था। छात्रों की मानसिकता को परखने के लिए द्रोणाचार्य हर किसी से केवल एक ही सवाल पूछ रहे थे।

“बेटा तुम्हें क्या दिखाई दे रहा है”?

हर छात्र अलग-अलग उत्तर दे रहा था। किसी को पृष्ठभूमि का आकाश दिखाई दे रहा था। तो किसी को पेड़ दिखाई दे रहा था। किसी को पेड़ पर लटके फल दिखाई दे रहे थे। तो किसी को पंछी दिखाई दे रहा था। लेकिन जब अर्जुन की बारी आई तब जवाब काफी हट के मिला।

मुझे तो सिर्फ पंछी की आंख दिखाई दे रही है,और कुछ भी नहीं।

कहने की आवश्यकता नहीं है, कि अर्जुन ने पंछी की आंख का सही भेद किया। आगे चलकर  Arjun  दुनिया का सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर साबित हुआ।

इस छोटी सी कहानी में उसकी श्रेष्ठता की झलक देखने को मिलती है।

उसमें जो “एकाग्रता” की शक्ति (power of concentration) थी, वही उसे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ स्तर पर ले गई।

कला चाहे, जो भी हो धनुर्विद्या या कोई और व्यक्ति की निजी जिंदगी हो या Business हो, हर जगह एकाग्रता (concentration )का असाधारण महत्व होता है।

एकाग्रता क्या है|Mind Concentration Tips

 


दुनिया में इस बात पर काफी रिसर्च हो गई है, कि प्रकाश की गति अधिक है या हवा की। वास्तव में देखा जाए तो इन दोनों से भी “मन की गति” कई गुना ज्यादा होती है। इसमें कोई संदेह नहीं है।

“चंचल विचारों पर, मन पर काबू पाने तथा उसे सही समय, सही जगह पर काम पर लगाना ही मन को एकाग्र करना कहलाता है।”

“किसी सूक्ष्म घटक पर अपना सारा ध्यान केंद्रित करना ही एकाग्रता कहलाता है।”

हमने प्रारंभ में ही अर्जुन का उदाहरण देख लिया है। इस प्रकार की एकाग्रता को प्राप्त करने के लिए अर्जुन ने साधना की होगी। लेकिन एक बार जो हमें इस  Concentration की ताकत का ज्ञान हुआ, तो अर्जुन की तरह हम भी अपनी अपनी जिंदगी के लक्ष्य पर निशाना साध सकते हैं।

“हम कह सकते हैं, कि सफलता पाने के लिए Mind Concentration Tips की अत्यंत आवश्यकता होती है।”

हमारा मन तो विचारों का भंडार है। सबसे अहम बात यह है, कि उसमें भावनाओं (Emotions) की भीड़ लगी रहती है। हम जब भी कुछ ठान लेते हैं, तब हमारी ही भावनाएं उसमें बाधा डालती हैं। इन बाधाओं को पार करने के लिए मन का एकाग्र होना आवश्यक होता है।

Mind Concentration Tips एकाग्रता कैसे प्राप्त करें ?

 


आजकल के दौर में Concentration से काम करना सचमुच बड़ा कठिन काम है। क्योंकि हम जब किसी को SMS करने लगते हैं, तो उसी समय किसी दूसरे का फोन आ जाता है। सामने रखे Laptop पर नई मेल आ जाती है। उसी समय दरवाजे की घंटी बजती है। समाचार पत्र के किसी समाचार को पूरी तरह से पढ़ना होता है।

इन सब चीजों के साथ ही साथ तैयार होकर ऑफिस भी जाना होता है। उसी समय दिमाग में पहली मीटिंग का कोई जरूरी  काम याद आ जाता है।

ऐसी हालत में मन के भीतर कहीं ना कहीं हमें Committed रहना पड़ता है, मैनेजमेंट गुरु Brian Tracy कहते हैं, कि हम जिस चीज के बारे में सबसे अधिक सोचते हैं। उसी को हम साध्य कर सकते हैं। फिर चाहे वह किसी Exam की तैयारी हो या फिर Business Goal हो, उस चीज को मन में सदैव रखना पड़ता है। आज इस लेख Mind Concentration Tips In Hindi के माध्यम से कुछ कारगर उपाय share कर रहा हूँ । 

एकाग्रता बढ़ाने के लिए कारगर उपाय।

Mind Concentration Tips In Hindi 

1. Cool Down, कोई भी काम करते समय बिना चिढ़े, बिना चिल्लाय, अत्यंत शांति से सामने वाले व्यक्ति को उत्तर देने का प्रयास करना चाहिए। उस पर हमें चाहे जितना भी गुस्सा आए हमें तो बस शांत ही रहना होगा। अपने आपको मन ही मन बताते रहिए “Cool Down” सब कुछ अच्छा होने वाला है। धीरे-धीरे शांत मन एकाग्र हो जाएगा।

2. अपनी पसंद का कोई गाना सुने । सुनने का प्रयास करें। एक ही गाना बार बार सुनने के कारण हमें उस गाने की कुछ खास पंक्तियां याद हो जाती है। इससे हमारी सुनने की तथा एकाग्रता से सुनने की आदत में सुधार होता है।

 3. TV का कोई प्रोग्राम चैनल को बिना बदले विज्ञापनों के साथ देखने का प्रयास कीजिए। हम जिस विषय पर काम कर रहे हैं, उसी में लगे रहने की आदत धीरे-धीरे होने लगती है।

4. किसी कागज के टुकड़े पर अपने Long term एवं Short term Goals को लिखकर, उस कागज को अपनी जेब में रखे। उस कागज को दिन भर में कई बार पढ़ने की कोशिश करें। धीरे-धीरे मन अन्य चीजों से हटकर उसी विषय पर अपने आप एकाग्र होने लगेगा। (Read: Goal Setting)

 5. जो काम जिस समय पर निर्धारित हुआ है, उसी समय पर करने का प्रयास करें। हो सकता है, आपको पहले हफ्ते में सफलता कम मिले लेकिन धीरे-धीरे एकाग्रता बढ़ने लगेगी।

6. आज का दिन बड़ा सुहाना है। इस वाक्य को जितना हो सके बार बार हंस कर दूसरों को बताएं। हमारा मन यदि आनंदित रहेगा तो जिंदगी में पॉजिटिव बदलाव आ सकते हैं, और सकारात्मक मन बहुत जल्दी एकाग्र हो सकता है।

7. मन पर नियंत्रण किए बिना एकाग्रता संभव नहीं है। इसके लिए हर दिन दो-तीन बार 5 मिनट के लिए शांत बैठिए, कुछ भी मत कीजिए कानों पर गिरने वाली आवाजों को सुनिए। मन में आने वाले विचारों को देखिए। धीरे-धीरे मानसिक स्थिति में बदलाव आता है और एकाग्रता साध्य होने लगती है।

8. ऊपर बताया गया ध्यान (Meditation) Commitment के साथ, बिना थके करते रहिए। हमें किस हद तक सफलता प्राप्त हुई है, इसके बारे में ना सोचते हुए बस ध्यान करते रहिए। प्रयासों की श्रंखला पूरी तरह से जब तक जुड़ नहीं जाती तब तक सफलता हासिल नहीं होगी।

9. जो लोग हमें झट से नकारात्मकता देने का प्रयास करते हैं। ऐसे लोगों को दूर ही रखिए, क्योंकि कई बार हम उनके साथ रहते-रहते हमारी एकाग्रता खो बैठते हैं। इसका कारण यह होता है, कि हम उनके विचारों पर भावनाओं का सहारा लेकर सोचने लगते हैं और हमारी एकाग्रता की सबसे पहली रुकावट यही होती है।(Read: नकारात्मक लोगों से सावधान।) 

10. हर रोज 20 से 25 मिनट तक कसरत करने की आदत डालिए। शारीरिक हलचलें हमारे मन का संतुलन बनाए रखती है, इससे एकाग्रता की क्षमता (power of concentration) का विकास होता है।

11.चेहरे पर हंसी को बनाए रखिए। अंदर से अपने आप शांति महसूस होने लगती है। ऐसा शांत मन झट से एकाग्र हो सकता है।

12. आसपास की स्थिति के बारे में शिकायत करने के बजाए शांत रहने का प्रयास कीजिए। शिकायत करते समय मन पूरी तरह से नकारात्मक होता है। सकारात्मक मन ही एकाग्रता बढ़ा सकता है। जो घट रहा है उस पर एक दम से प्रतिक्रियाएं ना दें, कई बार हमें कई चीजों के बारे में मालूम नहीं होता है। इस कारण मन में विचारों की मक्खियां भिनभिना ने लगती है। (Read :Mind Power :आपका दिमाग Search Google है|

13. शरीर को आवश्यक आहार, आराम दीजिए। किसी Hobby में अपने आप को जुटाकर मन को शांत रखिए।

14. जीवन का आनंद लीजिए, जीवन बहुत सुंदर है। उसे जीने के लिए मन का प्रसन्न होना जरुरी होता है। हफ्ते में एक दिन परिवार के लोगों के साथ बिताने का प्रयास करिए, उस समय काम के बारे में सोचिए भी मत, इससे हर चीज का मजा उठाना आसान हो जाता है। और मन असंतुष्ट ना रहते हुए एकाग्र हो जाता है।

दोस्तो, हमे आशा है यह लेख Mind Concentration Tips In Hindi आपको अवश्य पसंद आया होगा । हम लगातार आपके लिए उपयोगी विषयों पर लिखते रहेंगे वस यूं ही सांथ बने रहिए । इस लेख Mind Concentration Tips को share करना न भूले ।   

Also Read: आत्मविश्वास कैसे बढ़ाएँ ? 

Also Read: सफलता का बीज 

Also Read: Teamwork |सफल टीम कैसे बनाएँ ?
 

Share This:

Related posts

8 thoughts on “Mind Concentration Tips in Hindi | एकाग्रता की शक्ति

  1. अच्छा लगा पढ़ कर

    1. kyakahengelog.com

      Thanx

Leave a Comment

shares