You are here
साहस  और जुनून की कहानी | Arunima Sinha Inspirational Story Hindi Inspirational Story 

साहस और जुनून की कहानी | Arunima Sinha Inspirational Story

 साहस  और जुनून की कहानी | Arunima Sinha Inspirational Story
 

 Arunima Sinha Inspirational Story

दोस्तों आज मैं इस लेख साहस और जुनून की कहानी | Arunima Sinha Inspirational Story के माध्यम से एक ऐंसी शख़्सियत के बारे मे बात कर रहा हूँ जिन्होने यह सिद्द कर दिया कि साहस और जुनून आपसे वह भी करवा लेता है जो आपके शरीर के बस मे नहीं । एक Seminar  मे Arunima Sinha  (पर्वतारोही) ने अपनी जिन्दगी के संघर्ष और सफलता कि कहानी सुनाई उसी को मे आपसे share कर रहा हूँ।

उन्होने कहा मैं दो मौके कभी नहीं भूलती हूँ …………एक तब जब मैं हिमालय पर तिरंगा फहराकर कर लौटी थी और दूसरा हिमालय फतह से दो साल पहले मुझें train से नीचे फेंक दिया गया था और मैंने अपना एक पैर खो दिया था । मैं  कभी नहीं भूल सकती 2011 का वो दिन जब कुछ बदमाशों ने महज़ एक सोने कि चेन के लिए मुझे train से धकेल दिया था । मेरी आँखों के सामने मेरे पैर पर से train गुजर रही थी । बहुत दर्द मे थी मैं ………रात भर track पर पड़ी रही । सुबह गाँव वालों ने मुझे अस्पताल पाहुचाया । अस्पताल मे जब आँख खुली तो सभी मुझे बड़ी दया दया से देखरहे थे जो स्वाभाविक था। अगले दिन में अखवार कि सुर्खियों मे थी , लिखा था Arunima Sinha  सूइसाइड करने पहुची थी ।

मेरे पैर के ऑपरेशन के बाद रिशतेदारों ने दुख जताना शुरू कर दिया कि अब इसकी शादी कैसे होगी ? जबकि मैं सोच रही थी कि ख़ुद को कैसे वापस पाऊँ ……कैसे अपना Self –Confidence वापस पाऊँ …….उसी ArunimaSinha  को पाऊँ जो उस दिन train मे लखनऊ से  दिल्ली आ रही थी ।

मैंने तय किया कि मैं हिमालय चढ़ूँगी । ऑपरेशन के कुछ वक्त बाद मैंने training लेना शुरू कर दिया । लोगों ने मुझे पागल और सनकी कहा । तब बुरा लगता था आज खुशी  होती है क्योंकि  जो शख़्स अपने GOAL के लिए पागल नहीं है वह उसे पा भी नहीं सकता ।

Training के 8 महिनें बाद यह आलम हो गया कि 35 किलो कि डांगरी पीठ पर लादे मैं सबसे पहले हर पीक पर पहुँच जाती थी । लोग पूछते थे मैडम खाती क्या हो ।

arunima-getty2209-800

असल मे साहस और जुनून आपसे वह भी करवा लेता है जो आपके शरीर के बस मे नहीं। पूरा खेल दिल दिमाग और हौंसलों का है ।

यह मेरा पल पल का अनुभव है कि इंसान जो चाहता है वह पाने से उसे कोई नहीं रोक सकता । कई बार जब चढ़ाई के दौरान मेरा नकली पैर निकलकर अलग हो जाता था शेरपा कहता अरुणिमा जान बचाना है तो वापस चलो । मैं चुप रहती और आगे बढ़ जाती ।

एक दिन हमारे पीछे कोई भारतीय आया और उसने कहा अरे यह अरुणिमा है क्या ? शेरपा  ने कहा हाँ ………उस शख़्स ने कहा अरे तुमसे तो सारा देश motivate हो रहा है । बस फिर क्या था जो दर्द  था वह भी काफिर हो गया था । यहाँ से दो दिन बाद मैं पीक पर थी और यह एक  वर्ल्ड रिकॉर्ड बन गया  ।

 उन्होने अपने seminar के समाप्ती पर कहा मैं आज आप सब को एक ही massage देना चाहती हूँ कि इस कमी के बाबजूद अगर मैं हिमालय चढ़ सकती हूँ, तो आप भी कर सकतें है । फर्क सिर्फ़ साहस और जुनून का है।

        आप भी कर सकतें है । फर्क सिर्फ़ साहस और जुनून का है। 

जरूर पढ़ें : आत्मविश्वास | Tips to Improve Self-Confidence                                                                           जरूर पढ़ें : लक्ष्य निर्धारित कैसे करें | Goal Setting 

दोस्तों , यदि आपको यह लेख साहस  और जुनून की कहानी | Arunima Sinha Inspirational Story अच्छा लगा  हो, तो comment के माध्यम से अपना Feedback अवशय दे । और इसे अपने friends के सांथ ज़रूर Share करें। 
 

Share This:

Related posts

7 thoughts on “साहस और जुनून की कहानी | Arunima Sinha Inspirational Story

  1. Anil Kumar Maurya

    Comment- A man can do everything what he want bt in deficiency of encourage and right motivation, he will not do his best!

Leave a Comment

shares